what is depression in hindi

What Is Depression In Hindi: क्या आप जानते हैं भारत की लगभग 43 प्रतिशत जनता डिप्रेशन का शिकार है? GOQii, जो कि एक स्मार्ट-टेक हेल्थकेयर प्लेटफ़ॉर्म है, इसने हाल ही में 10,000 से अधिक भारतीयों पर किए गए एक अध्ययन में इस बात का खुलासा किया।

भारत के युवाओं में डिप्रेशन जिसे हिंदी में अवसाद कहा जाता है, एक तेजी से बढ़ती बीमारी है। आमतौर पर समाज में जितना किसी अन्य बीमारी के बारे में संवाद किया जाता उतना डिप्रेशन के बारे में नहीं किया जाता। यही कारण है कि लोगों में इसके प्रति बेहद कम जागरूकता पाई जाती है। WHO द्वारा किए गए एक अध्ययन के मुताबिक भारत दुनिया का सबसे Depressed देश है। आइए जानते हैं, डिप्रेशन क्या है (What is Depression in Hindi), डिप्रेशन के कारण, लक्षण और उपाय।

डिप्रेशन किसे कहते हैं? – What Is Depression In Hindi

what is depression in hindi
Photo by Brett Sayles from Pexels

अवसाद या डिप्रेशन एक ऐसा मानसिक रोग है, जिसमें व्यक्ति खुद को बेहद अकेला, उदास और निराश महसूस करता है। ऐसे व्यक्ती में सोचने समझने की क्षमता बेहद कम हो जाती है। ऐसे व्यक्ती को हर चीज में बुराई और नकारात्मकता दिखाई देने लगती है। डिप्रेशन का शिकार व्यक्ती दुनिया से खुद को अलग कर लेता है और इसका ज्यादातर समय तन्हाई में गुजरता है।

डिप्रेशन के कारण – Cause Of Depression In Hindi

what is depression in hindi
Photo by Ketut Subiyanto from Pexels

डिप्रेशन किसी को भी हो सकता है। यह किसी खास उम्र तथा लिंग तक मर्यादित नहीं है। इसके कई कारण हो सकते हैं, लेकिन लोगों में पाए गए कुछ खास डिप्रेशन के कारण इस प्रकार हैं;

  • शोषण होना
  • दवाई का सेवन
  • अत्यधिक घरेलू लड़ाई-झगडे
  • किसी अपने को खोना
  • जेनेटिक कारण

डिप्रेशन के लक्षण – Symptoms of Depression In Hindi

what is depression in hindi
Photo by Andrea Piacquadio from Pexels

महिला और पुरुषों में डिप्रेशन के यह कुछ आम लक्षण पाए जा सकते हैं;

  • उदासी, अशांतता, कमतरता की भावना महसूस करना
  • आनंददायक गतिविधियों में आनंद खोना
  • भूख या वजन में तबदीली
  • बहुत कम या बहुत ज्यादा नींद आना
  • उत्तेजित या थका हुआ महसूस करना
  • ध्यान केंद्रित करने में परेशानी होना

जरूरी नहीं कि हर कोई डिप्रेशन में इन सभी लक्षणों का अनुभव करे। डिप्रेशन में कोई सभी या इनमें से कुछ लक्षणों का अनुभव कर सकता है।

मर्दों में डिप्रेशन – Depression in Men

वैसे दुनियाभर में डिप्रेशन महिलाओं में ज्यादा पाया जाता है, लेकिन डिप्रेशन के कारण आत्महत्या सबसे ज्यादा मर्द करते हैं। क्योंकि मर्द अपनी भावनाओं के बारे में ज्यादा बात नहीं करते इसलिए एक लंबे अरसे तक पुरुषों में इस बीमारी का पता ही नहीं चल पाता है।

मर्दों में डिप्रेशन के लक्षण – Sign & Symptoms of Depression In Men In Hindi

what is depression in hindi
Photo by nappy from Pexels

भले ही उदासी को डिप्रेशन का एक मुख्य लक्षण माना जाता है,लेकिन मर्दों और औरतों में डिप्रेशन के लक्षण अलग हो सकते हैं। डिप्रेशन के कुछ लक्षण महिलाओं की तुलना में पुरुषों को ज्यादा प्रभावित कर सकते हैं; इनमें से कुछ इस प्रकार हैं;

  • उत्साह में कमी महसूस करना
  • अधिक शराब पीना या ड्रग्स लेना
  • पारिवारिक या सामाजिक स्थितियों से बचना
  • बिना उचित ब्रेक लिए अस्पष्ट रूप से काम करना
  • काम या पारिवारिक जिम्मेदारियों को निभाने में मुश्किल होना
  • जोखिम लेने वाले व्यवहार में संलग्न होना, जैसे कि जुआ या असुरक्षित यौन संबंध
  • आत्महत्या का प्रयास करना
  • अपने शौक और जुनून में रुचि खोना

इसके आलावा डिप्रेशन किसी व्यक्ति की सेक्स ड्राइव को भी प्रभावित कर सकता है। डिप्रेशन वाले पुरुषों में सेक्स करने में रुचि कम हो सकती है और यौन प्रदर्शन में परेशानी हो सकती है।

डिप्रेशन का इलाज – Depression Treatment In Hindi

what is depression in hindi
Photo by Julian Jagtenberg from Pexels

रोजाना की जीवनशैली में कुछ सकारात्मक बदलाव भी डिप्रेशन से छुटकारा पाने में मदद कर सकते हैं।

डिप्रेशन के हल्के फुल्के मामलों में, दैनिक व्यायाम, खाने पीने की आदतों में सुधार और अच्छी नींद डिप्रेशन के कुछ लक्षणों को कम करने में सहायता कर सकती है।

डिप्रेशन ज्यादा गंभीर होने पर दवा और मनोचिकित्सा का एक मिला-जुला संयोजन डिप्रेशन के अधिकांश लोगों के लिए एक प्रभावी इलाज हो सकता है। लेकिन कई बार मरीज की हालत को देखते हुए डॉक्टर कुछ दिनों के लिए अस्पताल में विशिष्ट निगरानी में रहने की सलाह दे सकते हैं।

लोग विभिन्न कारणों की वजह से अपने हालात और अपनी भावनाओं को दूसरों के साथ शेयर करने से कतराते हैं। जिसके कारण कई बार यह घुटन डिप्रेशन जैसे मनोरोग को जन्म देती है। डिप्रेशन का सबसे बेहतर इलाज अपनों के साथ बेहतर समय गुजारना, या उनके साथ अपनी फीलिंग्स शेयर करना हो सकता है। कई बार परेशानी इतनी बड़ी भी नहीं होती जितनी वह हमें दिखाई देती है।

हमें इस बात को स्वीकार करना होगा, कि हम कितने ही चतुर-चपल क्यों ना हों, लेकिन मानवीय मष्तिष्क की एक सीमा होती है। यह संभव है, कि जिस परेशानी का हल आप एक व्यक्ती के दिमाग को असंभव लग रहा हो, वो हल कोई दूसरा चुटकियों में सुझा दे। इसलिए बात करें। सुनने में यह बात बेहद छोटी लगती है लेकिन हो सकता है कि यह एक छोटी सी पहल एक बड़ी अनहोनी को होने से रोक दे।

Leave a Reply